हमराज़

मैं आईना हूँ हमराज़ तेरा मैं भी हूँ
तू माने या न माने इश्क़ तेरा मैं भी हूँ

अपनी आँखों में जब भी संवारा है तुझे
चाहा तेरे अक्स को दिल मैं बसाया है तुझे
यूँ नज़रें न चुरा चाहता तुझे मैं भी हूँ

मैं आईना हूँ हमराज़ तेरा मैं भी हूँ
तू माने न माने इश्क़ तेरा मैं भी हूँ

तेरा रक़ीब हूँ ज़माने से तुझे देखा है
बदलते चेहरों में रोज़ बदलते देखा है
गम ऐ दिल कह दे दिलदार मैं भी हूँ

मैं आईना हूँ हमराज़ तेरा मैं भी हूँ
तू माने न माने इश्क़ तेरा मैं भी हूँ

राज़ ऐ दिल तुझ से न कह पाऊंगा
तुझको यूँ मायूस भी न देख पाऊंगा
आँख से यूँ न गिरा अश्क तेरा मैं भी हूँ

मैं आईना हूँ हमराज़ तेरा मैं भी हूँ
तू माने न माने इश्क़ तेरा मैं भी हूँ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s