ज़िन्दगी है गणित

ज़िन्दगी है गणित रिश्तों को गिनती में न उलझाईये
बेफिक्र, खुश रहिये, मुस्कुराइए, महफ़िलें सजाइये
अपनों से दिल से मिला कीजिये हँसिये और हँसाइए
वक्त को न कीजिये ज़ाया ज़ाया रिश्तों से तौबा पाइये

One thought on “ज़िन्दगी है गणित”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s