टाइमपास

मीठी या खट्टी लगे स्वाद समझ न आये
ऐ दाना ऐ मूंगफली मन को तू अति भावे
बच्चे बूढ़े अमीर गरीब सबको ही ललचावे
ऐ दाना ऐ मूंगफली मन को तू अति भावे

छिलका जैसे हो कवच लाल तेरी है चुनरी
जितना भी खाये कोई नीयत कभी न भरती
मन ललचाता ही रहे पेट चाहे भर जावे
ऐ दाना ऐ मूंगफली मन को तू अति भावे

यारों और परिवारों को तू ही साथ ले आती
कोई भी बैठक सजे बिन तेरे न सुहाती
चाय की हो या वाय की हर पार्टी में छावे
ऐ दाना ऐ मूंगफली मन को तू अति भावे

टाइमपास तुझको कहें कोई कहे शिन्गदाना
गुड़ के संग दोसती जमें लेता लुत्फ़ ज़माना
तू बादाम गरीब का मन धनवान बनावे
ऐ दाना ऐ मूंगफली मन को तू अति भावे

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s