FB Marriage

खट रहा हूँ में थक रहा हूँ
दीवारों पे खोपड़ी पटक रहा हूँ
मैं कांचा कंवारा पति बेचारा
शादी होने की सजा भुगत रहा हूँ
मैं नवाब था गुरु था रुआब चार सू
उँगलियों पे बीवी की नच रहा हूँ

बोलूं अगर चाय ला बोले मुझे भी पिला
चीनी पत्ती उसमें जरा कम डालना
लंच अगर चाहिए पति परमेश्वरजी
सब्जी बस बनाऊं रोटी तुम पकाना

बीवी के तानों से पक रहा हूँ
ऑनलाइन लंच आर्डर कर रहा हूँ
मैं कांचा कंवारा पति बेचारा
शादी होने की सजा भुगत रहा हूँ

जब मूड सही हो सिर्फ मैगी बनाये वो
उसका भी वीडियो सब को दिखाए वो
तुम जो नौकरी करो तो जॉब है मेरी सुनो
ऐसा कह के घर के काम करवाए वो

त्रिशंकु सा मैं लटक रहा हूँ
आधा हूँ अधूरा भटक रहा हूँ
मैं कांचा कंवारा पति बेचारा
शादी होने की सजा भुगत रहा हूँ

आरजू जगे अगर तो बोले हाथ थामकर
सॉरी बाबा आज अपना मूड नहीं है
बाहर जो फिसले नज़र पड़े मुमताज पर
डांटे ऐसे जैसे अपना वज़ूद नहीं है

हाथ के हथोड़े पटक रहा हूँ
घूंट खुद के लहू के गटक रहा हूँ
मैं कांचा कंवारा पति बेचारा
शादी होने की सजा भुगत रहा हूँ

पंख कटे पंछी सा खजूर में अटका
टकटक आसमान तक रहा हूँ
मैं कांचा कंवारा पति बेचारा
शादी होने की सजा भुगत रहा हूँ

मैं था दिल का राजा दिल दे कर मैं हारा
जिंदगी की पटरी से रपट रहा हूँ
मैं कांचा कंवारा पति बेचारा
शादी होने की सजा भुगत रहा हूँ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s