मैया मोरी !

मैया मोरी! ऑटोवाला मोहे न बिठाये
आना घर मोहे इंद्रपुरी कहे
इंद्रलोक को जाए
मैया मोरी ऑटोवाला मोहे न बिठाये

बस स्टॉप पर मैं तो खड़ी थी
बस एकहु नहीं आय रही थी
आप ही रोके खुद ही पूछे
मैडम किधर रही जाए
मैया मोरी! ऑटोवाला मोहे न बिठाये

मैंने कही सुनसान जगह है
शाम भई मेट्रो तक छोड़ दे
बोलै रुपये दो सौ लगेंगे
मीटर से नहीं जाए
मैया मोरी! ऑटोवाला मोहे न बिठाये

कर्कश स्वर में बनाये बतियाँ
घूर रही मोहे दोनों अखियां
जियरा मोरा घबराय रहा है
अनहोनी न हो जाए
मैया मोरी! ऑटोवाला मोहे न बिठाये

का करूँ माँ अब कैसे आऊं
100 नंबर या 1091 लगाऊं
चिता घर की सताय रही है
कोई मदद नहीं आय
मैया मोरी! ऑटोवाला मोहे न बिठाये

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s