अभी बाक़ी है

तेरी नेमतों का क़र्ज़ उतारे बैठा हूँ
ज़िन्दगी है तेरा इंतज़ार बैठा हूँ
**********************
महक ज़रा तेरी साँसों की
आँखों की हया अभी बाक़ी है
कुछ रेशे तेरे दामन के
मेरी पेशानी पर बाक़ी है
ख्वाब न जो ताबीर बने
रानाई अभी भी बाक़ी है
दिल-ए-नादान बियांबां में
रूह-ए-खलिश अभी बाक़ी है
तुम चाक जिगर डालो खंज़र
कि इश्क़-ए-जुनूं अभी बाक़ी है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s